हिंदी सिनेमा का अंतर्राष्ट्रीयकरण

सिनेमा का दौर शायद ही कभी ख़तम होगा मगर उसमे आने वाले बदलाव को भी परिभाषित नहीं किया जा सकता है. यह बदलाव समय के साथ आये है और कहीं न कही अद्रिश्य है . सिनेमा हमेशा ही समाज का प्रतिबिम्ब रहा है, अंतराष्ट्रीय स्तर पर यह शुरू से ही दिख रहा है. अब हमाराContinue reading “हिंदी सिनेमा का अंतर्राष्ट्रीयकरण”